म०प्र० लोक अभियोजन विभाग की उपलब्धियां वर्ष 2018-19


  • 1. वर्ष 2018-19 में चिन्हित जघन्य और सनसनीखेज प्रकरणों में सजायावी प्रतिशत में उच्चतम वृद्धि हुई है जो वर्ष दर 2017 में 60 प्रतिशत दर से बढकर 70 प्रतिशत हो गयी है।
  • 2. वर्ष 2018-19 में मजिस्ट्रेट कोर्ट के प्रकरणों में अभियोजन विभाग द्वारा अपनी कार्यक्षमता का श्रेष्ठतम प्रदर्शन करते हुए सजायावी प्रतिशत का जो वर्ष 2017 में 52 प्रतिशत था जो बढकर वर्ष 2018 में 60 प्रतिशत रही है।
  • 3. लोक अभियोजन म०प्र० को भारत सरकार का प्रतिष्ठित पुरस्कार कलाम अवार्ड ऑफ इनोवेशन इन गर्वनेंस वर्ष 2018 प्राप्त हुआ है.
  • 4. लोक अभियोजन म०प्र० द्वारा शीघ्र विचारण करवाकर आरोपी को मृत्युदण्ड से दण्डित करवाने में अपनी उच्च कार्यदक्षता का परिचय देते हुए जिला कटनी के थाना कोतवाली अपराध क्र. 518/18 धारा376 एबी, 376/2झ भादवि, 3/4, 3/5 पॉक्सो एक्ट में 05 वर्षीय बालिका के साथ किये गये बलात्कार के अपराध में आरोपी को मृत्यु दण्ड से दण्डित करवाया। यहां यह उल्लेयखनीय है कि उक्त प्रकरण का संपूर्ण विचारण 5 कार्यदिवसों में पूर्ण कराया गया। उक्ते प्रकरण शीघ्र विचारण का एक विशेष उदाहरण है जिसका उल्लेख माननीय प्रधानमंत्री महोदय द्वारा 15 अगस्त 2018 को लाल किले की प्राचीर से दिये गये भाषण में साथ ही मन की बात कार्यक्रम में एवं डीजी कॉन्फ्रेंस में उक्त कार्य की सराहना की। इसी प्रकार जिला दतिया थाना थरेट अपराध 36/2018 धारा 363, 376(क)(ख)भा.द.वि., 5/6 पॉक्सो एक्ट में विचारण तीन कार्यदिवस पूरा करवाया जाकर आरोपी को आजीवन कारावास से दण्डित करवाया गया। उक्त दोनों प्रकरण शीघ्र विचारण के विशेष उदाहरण है। यथा संभव पूरे भारत में कम समय में विचारण पूरा कर आरोपी को दण्डित करवाये जाने का एक रिकॉर्ड है।
  • 5. वर्ष 2018 में म०प्र० लोक अभियेाजन विभाग द्वारा मध्यप्रदेश राज्य के विभिन्न जिलों के न्यायालयों में प्रकरणों का निराकरण करवाकर कुल 21 मामलों में आरोपीगण को मृत्युदंड से दण्डित करवाया गया है जो एक वर्ष में किसी राज्यग में अभियुक्तक गणों को दिये जाने वाले मृत्युदण्ड में सर्वाधिक है तथा म०प्र० लोक अभियोजन विभाग की उच्च कार्यक्षमता का परिचायक है। वर्ष 2018 निम्नलिखित प्रकरणों में अभियुक्तों को मृत्यु दण्ड से दण्डित करवाया गया।


×